सांभ

सांभ – आधुनिकता दी आपाधापी च गवाचदे असां दे रीति-रवाज, असां दी लोक भाषा, असां दा लाणा-खाणा, असां दा नाच- गाणा, असां दा उठणा – बौणा, बुजुर्गां दे हथां दियां लिखियाँ इबारतां तिणा देया हथां दियां बाणियां इमारतां।
अज असां जो करना पौणी
सांभ अपणी लोक संस्कृति दी
सांभ अपणे रीति – रवाजां दी
सांभ अपने लाणे- खाणे दी
सांभ असां दे नाच-गाणे दी
सांभ अपणीया लोकभाषा दी
सांभ पुराणियां धरोहरां दी
सांभ अपणी कला दी
सांभ अपणेया संस्कारां दी
सांभ मेलेयां कनै त्योहारां दी
सांभ इक पहल है अपणीया जड़ां कनै जुड़ने दी
सांभ इक कोशिश है अपणी लोक संस्कृति बनै मुड़ने दी
ओआ सब मिली करी अपणे आपे जो परखदे
अपणीया गवाचदिया सांस्कृतिक विरासता जो सांभी ने रखदे…

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: विषयवस्तु रक्षित है !!