अजकले देयां निकक्यान्या

अजकले देयां निकक्यान्या ताँ कुथू अपर जेडे चालियाँ ढकोई आयो तिणा निक्के होंदे कंचे (गोलियां , बंटे , बल्लौर, गलेलियाँ , तीर ) जरूर खेलयो होणे , कन्च्याँ दा भी अपणा इक बखरा मज़ा था | पत्थरे दिया चिप्पियाँ ने या लकड़िया ने ज़मीना जो जरा क पुट्टी करी गुत्ती( पिल्लै) बणाणा केई बारी जाहलू ज़मीन पोली (नरम) होंदी थी ताँ पैरे दिया खुरिया ने भी गुत्ती बणी जांदी थी कनै गुत्ती ते थोड़ी देई दूर एक लीक खिंजी ने पैन्टा बणाणा फिरि शुरू होन्दा था खेल , होड़ लगदी थी की मीदा(पहले खेल शुरू करने आला ) कुण औंदा, इक्का अक्खा जिक्की ने पैंटे पर गूठा रक्खी ने गुत्तिया दी सिस्त (निशाना) जे कंचा छडदे टैमे पैंटे ते गूठा चुकोया ताँ समझी लेआ रोह्ल पेआ अपर जिस दी गोली गुत्तिया विच पेयी जांदी थी सै ही मीदा रैह्न्दा था जे किसी दी भी गोली गुत्तिया विच नी पौंदी थी ताँ जिस दी गुत्तिया दे सबते नेड़े होंदी थी सै मीदा मंन्या जाँदा था फिरि दूक या दोला (दुसरे नंबर आला ) कनै जेडा सबना ते पछाँ रैह्न्दा था तिस्सी जो फड्डी गलांदे थे इसते अलावा केईयां ग्राँ च गुत्तिया ते पैंटे बन्नै सिस्त लायी ने बारियां पुगहोंदियां थियाँ हसाब सै ही जिदी गोली पैंटे दिया लीका पर पौंदी सै मीदा रहन्दा था खीसयाँ भोके पेई जांदे थे कंचेया दे भारे ने कई गाजले छोरु लोहे दे भोट्याँ लेई ने औंदे थे |कनै मातड़- तमातड़ां जो डरान्दे थे कि अज्ज बच्चा फाकड़ियाँ पाई दैणीयाँ…

ऐ खेल लगभग तरै या चौर तरीकयाँ
ने खलौन्दा था

जियाँ कि चक्री , फुंड़म , पिल्लै , गिठ आदि

चक्री – गोलियां जो इक गोल दायरा खिंजी करी तिस्स दायरे विच रखी ने खेलदे थे

फुण्डम – खड़े होई ने पैंटे पर गोलियां जो निशाना लगाना

पिल्लै – गुत्ती बनायीं ने ज़मीना पर खेलना

गिठ – आसान खेल जिस विच गोलिया जो ठिचने दी जरूरत नी होंदी थी जे गोली दूसरी गोलिया ते गिठ भर दूरिया पर भी पेइयो होए तां भी मारने वाला जीती जाँदा था

इस खेले दी भी अपणी ही इक्क भाषा थी अपणे शब्द थे

जियाँ कि

शैन्का – फुण्डम खेलदे वक़्त गोलियां पैंटे ते गुत्तिया बन्नै किठियाँ सुटदे जिस कारण केई बरी दो गोलियां किठियाँ जुडी ने पौंदिया थियाँ फिरि तिणा गोलियां विच इक या दो उंगलियां दा जेड़ा गैप दित्त्या जाँदा था तिस गैपे जो शैंका गलांदे थे

ठिचणा – निशाना लगाणा
सिस्त – निशाना बनणा
भोटा – स्ट्राइकर
डफला – सै गोली जिसा दी शेप खराब होंदी थी
लोघा – पैनल्टी
फाकड़ा – टुट्टियो भज्जियो गोली
हड्ड- गोडा- गोडे पर गूठा रखी ने निशाना लगा णा गोलिया जो
ढाक या डाक – जाहलू गोली कई बारी स्ट्राइक करने टैमे किसी दे पैरे ने रुकी जांदी थी ताँ जिस दे पैरे ने गोली रुक्दी थी सै गोलिया जो अपने हसाबे ने इक दूरी देइ ने सुट्दा था तिस वक़्त जिस दी गोली होंदी थी सै सोच दा था की गोली विरोधी खिलाड़िये दिया पहुंचा ते दूर ही सुट्टी जाए

हाँटी – पार्टनर खिलाडी

रोहल पाणा – खेला देयां नियमा मुताबिक नी खेलना
लोटी – गोलियां जो लूट लेणा

जे तुसां वाल होर शब्द हैण इस खेले ने जुड़यो ताँ तिणा जो जरूर साँझा करणयो

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: विषयवस्तु रक्षित है !!